प्रधानमंत्री मोदी के रडार और कैमरे वाले बयान पर सोशल मिडिया पर मीम की हुई बरसात , हंस-हंसकर हो जाएंगे लोटपोट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कैमरे, ईमेल और रडार वाले इंटरव्यू पर सोशल मीडिया पर कैसी रही हलचल देखें यह तस्वीरें

cloudy modi
Reading Time: 2 minutes

प्रधानमंत्री मोदी ने न्यूज़ नेशन पर दिए इंटरव्यू में अपने पिछले दिनों की बातें बताई, जिसमें उन्होंने कहा कि वह हमेशा से ही गैजेट्स में रुचि लेते थे। इस बात को आगे जारी रखते हुए उन्होंने कहा ”मैंने पहली बार डिजिटल कैमरे का इस्तेमाल 1987 में किया था।”

इस बात को लेकर सोशल मीडिया पर लोगों ने उनका मजाक बनाना शुरू कर दिया। आपको बता दें कि पहले इलेक्ट्रॉनिक कैमरा का आविष्कार साल 1975 में किया था और इसकी बिक्री साल 1987 में, अमरीका में शुरू हुई थी पर भारत में उस समय इनका मिलना बहुत मुश्किल था। भारत  में कमर्शियल ईमेल 1995 में शुरू की गई थी जिसके द्वारा आप केवल लिखा हुआ मैसेज भेज सकते थे, फोटो अथवा विडियो नहीं।

इसी इंटरव्यू में उन्होंने बताया कि ‘मैंने पहली बाहर ई-मेल का इस्तेमाल 1988 में किया था’ ।

इंटरव्यू में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि बालाकोट एयरस्ट्राइक के दौरान उन्होंने सुझाव दिया था कि बादल और बारिश होने की वजह से भारतीय वायुसेना के विमान पाकिस्तानी रडार में आने से बच सकते हैं. पीएम मोदी के इस बयान को लेकर भी सोशल मिडिया पर काफी खिल्ली उड़ाई गयी।

देखिये किस तरह प्रधानमंत्री मोदी का सोशल मिडिया पर मज़ाक बनाया गया –

 

 

यह भी पढ़े – अमेरिकी पत्रिका टाइम्स ने मोदी को फ्रंट पेज पर छापा , लेकिन उन्हें ‘भारत का प्रमुख विभाजनकारी’ बताया आखिर क्यों जाने ?

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here